G4S Security Kya Hai : Job Eligibility, Salary, Duty Hours

G4S Security Kya Hai, G4S का Full Form – “Group 4 Security” है । इसके Owner का नाम Marius Hegerefe तथा इसके MD का नाम Ashok Bajpai है। भारत में इसका 131 से अधिक शाखाएँ, हब और कार्यालय है।

सिक्योरिटी गार्ड किसे कहते हैं ?

G4S Security Kya Hai जानने से पहले यह भी जानना जरूरी है कि Security Guard कौन होता है ? फैक्ट्री, मॉल, स्कूल, अस्पताल, होटल, क्लब, बैंक, एटीएम तथा ऑफिस में जो वर्दीधारी व्यक्ति (सुरक्षा कर्मी) देख-रेख तथा सुरक्षा के लिए ड्यूटी पर तैनात होते हैं, उसे ही सिक्योरिटी गार्ड कहते हैं।
कम्पनी के पास पेशेवर प्रशिक्षित सुरक्षा कर्मियों की टीम है जो अपने ग्राहकों को सुरक्षा देने का काम करती है।
जिसमें डिप्लोमैटिक मिशन, आईटी उद्योग, बहुराष्ट्रीय कंपनियां, होटल, औद्योगिक इकाइयां, एयरलाइंस और हवाई अड्डे, वित्तीय और शैक्षिक संस्थान, मॉल और मल्टीप्लेक्स, बीपीएल तथा इसके अलावा और भी हैं।
यह एक अंतर्राष्ट्रीय Security Guard की Agency है। जिसका विस्तार 100 से अधिक अन्य देशों में भी फैली हुई है। इसमें लाखोंं करोड़ों सुरक्षाकर्मी कार्यरत हैं।
यह कंपनी वर्दीधारी, पेशेवर के रूप में प्रशिक्षित और अच्छी तरह से निगरानी करने वाले सुरक्षा अधिकारी प्रदान करता है जो चोरी, तीर्थयात्रा, घुसपैठ, आग, बाढ़ या किसी दुर्घटना के कारण होने वाली हानि के खिलाफ संपत्ति की सुरक्षा के लिए जिम्मेदार होते हैं।
इसमें सभी प्रकार की सरकारी सुविधाएं हैं। यह एक सामाजिक सेवा संगठन है। कई राज्य में स्लम के बच्चों के स्वास्थ्य, शिक्षा और भविष्य को बेहतर बनाने के लिए कुछ राज्यों में G4S एजुकेशन स्कूल के नाम से कुछ स्कूलों की स्थापना की गई है।
कई राज्य में कॅन्सर से पीडित रोगियों के स्वास्थ्य में सुधार के लिए भी प्रयास किया है। इस कम्पनी में स्थायी नौकरी मिलता है। मासिक वेतन जो महीने के 26 दिन तथा 8 घंटे प्रतिदिन के अनुसार अपने कर्मचारियों को देेेती है।
इसके अलावा श्रमिक बीमा (ईएसआई), कर्मचारी भविष्य निधि (पीएफ) बोनस, वेतन अवकाश (CL/PL-वार्षिक अवकाश), पेंशन, अनुदान (GRATUITY), साप्ताहिक अवकाश (WEEKLY OF) जैैसी फायदे एवं सुविधाएँ मिलती है।

Training से संबंधित Information –

 इस Security Agency में प्रथम उपचार (FIRST AID), फायर फाइटिंग (FIRE FIGHTING – आग बुझाने की ट्रेनिंग), परेड, ऍक्सेस कंट्रोल, गोल्डेन रूल्स, Physical Fitness, वर्क ट्रेनिंग जैसी ट्रेनिंग दी जाती है।
Training के दौरान सुबह का नाश्ता तथा दोपहर एवं शाम का भोजन और संस्थान के तरफ से मुफ्त प्रदान किया जाता है।
प्रशिक्षण पूरा होते ही नाॅर्मल लिखित परीक्षा आयोजित की जाती है तथा उत्तीर्ण छात्रों को विभिन्न कंपनियों में नौकरी के लिए भेजा जाता है। कंपनी में ग्राहकों द्वारा आपका इंटरव्यू लिया जायेगा, उसके बाद आपको वे अपने कंपनी में Security Guard के रूप में नियुक्त करते हैं।
g4s-security-kya-hai

G4S Security Joining Fee –

पहले नियम थे कि ज्वाइन करने के बाद आपसे कोई शुल्क नहीं लिया जाता था, लेकिन अब शुल्क लिया जाता है और एक वर्ष के बाद, ली गयी फीस आपके बैंक खाते में वापस कर दी जाती है।

Joining Fee इसलिए लिया जाता है क्योंकि   कुछ लोग G4S Security कम्पनी को ज्वाइन कर लेते हैं और कुछ दिनों के बाद Job छोड़ देते हैं। नौकरी छोड़ने के पश्चात वर्दी जमा नहीं करते हैं और कुछ दस्तावेजों को जल्दी नहीं ले जाते हैं, यह शुल्क उसके लिए लिया जाता है।

G4S Security  Join करने पर इसका Joining Fee अलग अलग शहरों में अलग अलग हो सकती है ।

G4S Security Guard बनने के लिए Eligibility Kya Hai –

01.  आपकी शैक्षणिक योग्यता 10वीं पास होना चाहिए ।
02.  उम्र 18-32 वर्ष होना चाहिए।
03.  आपकी ऊंचाई 167 सेंटीमीटर होना चाहिए।
04.  पहचानपत्र के रूप में आधार कार्ड होना चाहिए ।

कौशल तथा अनुभव क्या होना चाहिए –

  • मौखिक एवं लिखित रूप से स्पष्ट संवाद करने की क्षमता होना चाहिए।
  • सुरक्षा उद्योग में एक सुरक्षा अधिकारी के रूप में काम करने का पूर्व अनुभव हो या कोई ऐसा व्यक्ति जो विशिष्ट प्रक्रियाओं और निर्देशों का पालन करने के लिए आश्वस्त हो।
  • अच्छा ग्राहक सेवा कौशल होना चाहिए।
  • एक वैध सुरक्षा उद्योग लाइसेंस या सुरक्षा क्षमता का स्वीकृत प्रमाण पत्र होना अनिवार्य है ।

G4S Security Guard Salary –

G4S Security कम्पनी में सुरक्षा गार्ड को लगभग 13,714 रूपये औसत सैलरी प्रतिमाह मिलती है,  लेकिन अलग अलग शहरों एवं कम्पनियों में Salary में अंतर हो सकती है।

G4S Security Duty Hours ?

अगर आप भी सिक्योरिटी गार्ड की नौकरी ज्वाइन करना चाहते हैं तो आपके मन में यह विचार आया होगा कि एक Security Guard बनने के बाद कितने घंटे Duty करना पड़ता है ।
सिक्योरिटी गार्ड की ड्यूटी 3 शिफ्ट में होती है, जैसे 1st शिफ्ट सुबह 6 बजे से 2 बजे तक तथा 2nd शिफ्ट दोपहर 2 बजे से शाम 10 बजे तक उसके बाद 3rd शिफ्ट रात 10 बजे से सुबह 6 बजे तक होता है। इस तरह 1 सुरक्षाकर्मी को प्रतिदिन 8 घंटे की Duty  करना पड़ता है।
इसके अलावा 12 घंटे की ड्यूटी भी होता है। जो कर्मचारी पहली शिफ्ट में जिस स्थान में 12 घंटे ड्यूटी करता है उसी स्थान में दूसरा शिफ्ट वाले कर्मचारी भी 12 घंटे ड्यूटी करता है, अर्थात 2 शिफ्ट में ड्यूटी होती है जैसे पहली शिफ्ट सुबह 6 बजे से शाम 6 बजे तक तथा दूसरी शिफ्ट शाम 6 बजे से सुबह 6 तक होती है।

G4S Security Kya Hai : Security Guard के कार्य एवं जिम्मेदारिया –

एक आदर्श सिक्योरिटी गार्ड अपने कंपनी द्वारा निर्धारित नियमों का पालन करता है।
▪ पार्किंग एरिया में ड्यूटी होने पर वाहन गेट पर आते है तो उस वाहन के प्रवेश या पार्किंग को देखना और जांच करना।
चेक करने के बाद अपने रजिस्टर में एंट्री करना उसके बाद पार्किंग में प्रवेश करने की इजाजत देना ।
▪ पार्किंग एरिया में जगह होने पर ही वाहन को पार्क कराने की कोशिश करें ।
▪ गेट को हमेशा बंद अथवा कुण्डी लॉक करके रखना चाहिए।
▪ विजिटर या माल वाहक गाड़ी अंदर आती है तो उनका रिकॉर्ड रखना तथा इन-आउट रजिस्टर में उसका एंट्री करना अनिवार्य है।
▪  अगर आपकी ड्यूटी स्कूल या कॉलेज में है तो वहां विद्यार्थी और कर्मचारीयो के अलावा किसी अन्य को प्रिंसिपल के आदेश के बिना अंदर आने ना दें।
▪  यदि स्कूल या कॉलेज में किसी बच्चे का अभिभावक मिलने के लिए आए तो बिना प्रिंसिपल के आदेश के बिना उसे मिलने ना दें।
▪ स्कूल या कॉलेज के बसों को धीमी गति से चलाने के लिए ड्राइवर से कहना, जिससे कोई अप्रिय घटना ना घटे।
▪ ATM में ड्यूटी होने पर वहां आने वाले ग्राहक पर नजर रखना Security Guard का काम होता है। किसी को भी अवैध तरीके से छेड़ा खानी न करने दें, यदि कोई ऐसा करता है तो उसे मना करना सिक्योरिटी गार्ड का कर्तव्य होता है ।
▪ ATM ख़राब हो जाने पर इसकी सूचना सम्बंधित बैंक अधिकारी को अवश्य देना चाहिए ! कैश निकालने वालों की अंदर में भीड़ ना लगने दें  उन्हें बारी बारी से अंदर जाने के लिए कहें।